जो कर्ता में अकर्ता, और अकर्ता में कर्ता को देखता है। वही देखता है।भाग-२

आत्मा अकर्ता है, जब चलने की बात आये। और कर्ता है जब देखने की बात आए। और शरीर कर्ता है सांसारिक कार्य का, लेकिनअकर्ता है जब देखने की बात आए। 

तो इस प्रकार शरीर हमारा स्वरूप नहीं है क्योंकि यह तो  मृत्यु के साथ ही ख़त्म हो जाएगा। हमारा स्वरूप आत्मा है, और आत्मा कोजानना ही अपनेआप को जानना है, और आत्मा को उसमें खोकर ही जाना जा सकता है तो आत्मा को जानना ही परमात्मा हो जाना भीहै। 

तभी उदघोश निकलेगा अपनेआप से ‘अहं ब्रह्मस्मि’। वही ब्राह्मण कहलाने का अधिकारी है जिससे यह उदघोश अपने आप निकला हो।किसी के कहने से नहीं, किसी से सुनने से नहीं। 

कबीर इसी को कह गए है: 

कहा सुनी की है नहीं, देखा देखी की है बात। 

आत्मा में dissolve हो जाना, खो जाना ही आत्मा को देखना है। काम के समय भी हम अपने आप में खो जाते हैं, वहाँ इसकी झलकहमको मिली ज़रूर है लेकिन तब काम का सहारा लेकर खोए थे। और जो सबका सहारा है उसे बेसहारा होकर ही जाना जा सकता है। 

इसीलिए संगीतज्ञ भी ईश्वर के प्यासे रहते हैं। सहारे से एहसास होता है लेकिन डूब नहीं पाते। तिनके का भी सहारा है तो डूब नहींपाओगे। और उसे डूबकर पूरी तरह dissolve होकर ही जाना जा सकता है। 

ऊपर से तुर्रा यह कीं समय बहुत काम है। कबीर ने कहा है: सागर में एक लहर उठी, फिर गिरकर सागर में हो मिल गयी। सिर्फ़ इसलिएकि उसका नाम ‘लहर’ है, क्या वह सागर नहीं रही? लेकिन खुद को लहर मानते ही सारा मायाजाल अपनेआप गुँथने लगता है। फिर उसमें भेद करना शुरू कर देता है mind जैसे कोई सुनामी लहर, ज्वार-भाटा लहर, छोटी लहर, नीची जाति की लहर, बनिया लहर, ब्राह्मण लहर, शूद्र लहर, क्षत्रिय लहर, Indian लहर, पाकिस्तानी लहर, मुसलमान लहर, Christian लहर, बौद्ध लहर, गोरी लहर, काली लहर, Asian लहर, engineer लहर, डाक्टर लहर, डॉक्टरेट लहर, scientist लहर, richest लहर, poor लहर, भिखारी लहर, दानदाता लहर, प्रधानमंत्री लहर, कोंग्रेस लहर, dictator लहर, लिबरल लहर, पुरुष लहर, स्त्री लहर, हिजड़ा लहर, lesbian लहर, ग्रीन लहर, sea facing लहर, highrise लहर, झोंपड़पट्टी लहर, किसान लहर, मज़दूर लहर, अखाड़ा लहर, निर्गुणी लहर और वोटर लहर, NOTA लहर और फिर उनमें भी हज़ार तरह के भेद। खुद का पता नहीं की वह लहर बनी है, एक मौक़ा मिला है सागर को जानने का- क्योंकि अलग होकर ही जाना जा सकता है-और इन भेदों में उलझकर मूल उद्देश्य तो बाक़ी ही रह गया और लहर वापस सागर में मिलकर सागर हो गयी लेकिन सतह पर प्लास्टिक की गंदगी के साथ ही गुज़ारा करना है अगला मौक़ा मिलने तक। बड़ा प्रयास किया था लहर रहते सागर की सफ़ाई का, असम्भव काम हाथ में ले लिया, और जो सम्भव था- कि खुद को जान लेती की लहर नहीं सागर है तो गहरे में चली जाती और हमेशा के लिए साफ़ ही रहती।

मनुष्य जीवन सागर में उठी लहर से ज़्यादा नहीं है। लेकिन challenge बहुत तगड़ा है की उससे पहले कि वह लहर गिरकर वापस समुद्रहो जाये, उसे खुद को यह जान लेना है कि वह समंदर ही है, जो नाम उसे दिया है वह सिर्फ़ सुगमता के लिए है, जो ओहदा उसने पाया हैवह सिर्फ़ उस दौरान उदर पूर्ति और परिवार के लिए है इत्यादि सब तुच्छ हैं कामचलाऊ हैं उनसे लगाव या उन बातों में उलझकर जो मुख्यउद्देश्य है लहर हो जाने का उसको नहीं भूलना है और urgent basis पर चाहे थोड़ा ही सही लेकिन करना है क्योंकि यह शुभ है, यहपुरुषार्थ का हिस्सा है और मृत्यु के बाद भी साथ रहता है। 

जो लहर यह जान लेती है और पा लेती है अपना उद्देश्य फिर वह सागर को गहराई में लुप्त हो जाती है। फिर लहर नहीं बनती। 

इसी कोरहीम ने कहा है:  जिन खोज तीन पाइयाँ, गहरे पानी पैठ। 

या तो मन को सागर समझो और विचारों को लहर तो जब मन पूरी तरह शांतहोगा तब पाओगे। या अपने आप को जान लोगे तब पाओगे। सागर और संदर तो बहना है, असली बात आपको जगाना है। यह बात आपतक पहुँची इसका मतलब ही है कि भोर हो गयी है आपके लिए, अब जागो। 

जो कर्ता में अकर्ता, और अकर्ता में कर्ता को देखता है। वही देखता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.