घणा दिन सो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।-A mystical song translated.

Selected verses of mystic Kabir are translated in my poor English. Singer Prahlad Singh Tipania. We grew up listening to him. इस देश के आध्यात्मिक यात्रा पर किए अनुसंधान इतने गहरे गए हैं कि कहीं और इस जगत में उसकी कोई बराबरी पूरे विश्व में नहीं है। सत्य हमेशा नएनए रूप में जगत के सामने आता रहेगा यह उसका स्वभाव है। यदि जिनके ऊपर इसके अनुसंधान की ज़िम्मेदारी है वे जब जब भी अपनीज़िम्मेदारी से च्युत होंगे, सत्य अपने को प्रकट कहीं और से करने लगेगा। इसीलिए पश्चिम में लोग आजकल ज़्यादा इसका अनुभव करपा रहे हैं और पूरब फ़ालतू की बातों में ही उलझा हुआ है।

कोई भी संत अपने सभी पूर्व जन्म की यात्रा कर सकता है। कबीर ने सिर्फ़ इस जन्म और पिछले जन्म के सम्बंध में यह रचना की है। अबतो हमको पता है कि यहूदी लोग भी यह मानते हैं कि पिछले जन्म की मौत के समय व्यक्ति को अपनीं REALITY का पता चलता हैऔर साथ ही साथ उसका जीवन किन व्यर्थ की बातों में व्यतीत हो गया उसकी पूरी फ़िल्म कुछ ही पल में दिख जाती है। और तब उसकोपता चलता है कि उसकी जगह कोई दूसरा ही जीवन जी रहा था और वह तो वह पा ही नहीं सका जिसके लिए उसको मनुष्य जन्म मिलाथा। तब वह ईश्वर से वादा करता है कि अभी बार जब उसे मनुष्य जन्म मिलेगा तब वह इसमें भटकेगा नहीं और अपने आपको सबसेपहले जानने जा प्रयत्न करेगा। तो जब माँ का गर्भ उसे फिर मिलता है तब तो उसे अपनी सौगंध याद रहती है और फिर जब माता केगरभ में भी उसकी उदर पूर्ति होने लगती है तब फिर भूल या सो जाता है, फिर प्रसव के कष्ट गुज़रता है तब उसे फिर सौगंध याद आती है और उल्टा लटक कर जैसे ही पहली साँस लेता है भीतर फिर भूल जाता है. इस प्रकार पूरे जीवन जब जब कष्ट से गुजरता है ईश्वर को जो वचन दिया था ‘कि इस बार मनुष्य जन्म तूने फिर से देकर जो उपकार किया है, एक मौक़ा और दिया है जबकि मेरी कोई योग्यता ही नहीं थी क्योंकि हज़ारों जन्मों से क़सम तोड़ता ही रहा हूँ। तो इस मौक़े को जो मिला है अपने को जानने का, अपनी Reality को जानने का, ईश्वरत्व की खोज अपने भीतर करने का, ‘अहं ब्रह्मस्मि’ का उदघोश खुद के अनुभव से करने का’ इस क़सम को फिर फिर भूलता है और कष्ट के समय फिर याद आती है फिर भूल जाता है इस प्रकार जीवन पूरा भोग लेता है पर जागता नहीं तब ‘तेन त्यकतेन भुंजिथा’ अर्थात् जिन्होंने भोगा वही जान भीसकता है उसकी व्यर्थता को- या इस व्यर्थता की उसकी याद दिलाते हुए कबीर कहते है ‘अब तो’ या ‘अथातो भक्ति जिज्ञासा’ की तर्क पर जागने की याददिलाते है कि अभी भी मौक़ा बाक़ी है। जो भी इस दिशा में प्रयत्न करेगा वह पुराने शुभ करमों में जुड़ता जाएगा cumulative addition को ही भगीरथ प्रयत्न कहा है, और यही पुरुषार्थ की ख़ासियत है। तो जो भी बन सके कर जा। यही शुभ लाभ है जो घटता नहीं। मैंने कुछपद आख़री में जोड़े हैं।

E

प्रह्लाद टिपानिया का भजन जिस पर यह पोस्ट आधारित है

घणा दिन सो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग। A lot of days you have slept, oh traveller now it is time to get awakened. (A human being takes birth after its Soul, which took desires of last life with it, promises to god as it was desperate to REPENT by taking life as human being. Mystics says that just before death every person was shown a film of life he lived and also he comes to know his Reality or consciousness or soul. But there are lots of worldly desires too, that remained unfulfilled till death. And now there is not left enough to fulfil them or get rid of them as death has knocked its door already. So he realises the mistake of not embarking upon spiritual journey in last life and in this life too got caught in fulfilling material worldly desires. Life as a human being is the only opportunity to get dissolved with one’s Reality or consciousness being alive, then no further birth happens as desires vanishes on its own after knowing the Reality. So from the time leaving the body ‘the soul with desires’ start promising the God to give it one more opportunity to embark upon spiritual journey, like a child request for toy that this is my last wish. Now after getting womb he forgets his promise, and when breathing does not begin, he again remembers it and again promises to god to grant him breathing. So at many times in life whenever he face difficulty actually he is remembering his promise that he has to fulfil in this life, and requesting god to take him out of this troubled situation but soon after the end of the troubles again gets involved in enjoying material life. This way whole life he has spent and the end of life is only left, so the mystic again reminds that still there is some time left, try to get awakened and fulfil your promise.

पहला सुत्यो मात गरभ में, उल्टा मुँह तू झूला First of all you slept in your mother’s womb, and then hanged from your legs head down.( so that you could take first breath)

साँस पाकर रोते ही, क़सम दियो बिसराय। ( You forgot the promise you have made to god for granting you birth as human being just after start of breathing)

जनम तेरा हो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

That you have taken breath as human being, at least in this life get awakened, oh traveller of spiritual journey.

घणा दिन हो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

Enough days you have already wasted in enjoying material world, now it is time to get awakened, oh traveller of spiritual journey.

दूजा सुत्यो मात गोद में, दूध पिया मुसकाया,  

बुआ ने तेरा पोतड़ा सीला. और मल मूत्र तेरा धोया ।

Second time you slept in the mother’s lap, and then when you were unable to take milk from your mother’s breast, you promised to god again to get awakened this time, but soon after taking milk you forgot it.

बहन भाई तेरे लाड़ लड़ाएँ, झूला दिया बँधाए।

बँधाऊँ तेरा हो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

Your mother, your sister and paternal aunt all are taking your care at least now start your spiritual journey.

घणा दिन हो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

Enough days you have already wasted in enjoying material world, now it is time to get awakened, oh traveller of spiritual journey.

तीजा सुत्यो त्रिया सेज पे, गले में बैयां डाली। Third time you slept after your marriage with your wife. You got involved in her wish fulfilment and enjoying sexual pleasures.

मोह मद में फँसी गयो तू, भूलो जन्म कौर(सौगंध). You are caught in ego and desires trip and forgot the promise you have made with god to embark upon spiritual journey, Oh traveller.

बियाह तेरा हो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

Now you have got married too, now to fulfil your promise with god at least try to embark upon spiritual journey, oh traveller, to get awakened.

Enough days you have already wasted in enjoying material world, now it is time to get awakened oh traveller of spiritual journey.

घणा दिन हो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

चिता को सोणो बाक़ी रई गयो, सब लियो है रे भोगी।

After your children got settled, but you are now on ego trip to let the world know that you too exists, but the mystic says that only the death is going to happen now and you have enjoyed all the worldly pleasures too.

कहे कबीर अब जागण की रे, तू जाग मत मरे गँवार।Kabir says to you that you are now mature enough to understand my calling too, so now embark upon spiritual journey to get awakened. If you still keep on enjoying material life the god will again call you idiot at the time of death. So please de not die as idiot again. You died as an idiot in all many thousands life before.

मरण तेरो होने को है रे, अब तू जाग मुसाफ़िर जाग।

Now the death is only left to happen in this life, before death at least please get awakened, oh traveller of spiritual journey.


चौथा सुत्यो माया जगत में, मद मन को भरमाय।

अनंत इच्छा पूरी करन को, चारों पहर लगाय।

लगन तो लगा ले रे, अब मत मरे गँवार,

घणा दिन सो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

घणा दिन हो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

ध्यान तू करी ले रे, अहंकार तज़ी दे रे,

सुमिरन तू करी ले रे, मन को मारी दे रे,

हरी को भजी ले रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

घणा दिन हो लियो रे, अब तो जाग मुसाफ़िर जाग।

यदि आपको यह post पसंद आया है तो इसे अपने साथियों को भी share करें। ताकी जिसको इसकी बहुत ज़रूरत है उस तक यह पहुँच सके। पुण्य का काम है माध्यम बन जाना किसी के भले के लिये।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.