होंश

Stillness of mind and serenity of mindfulness act like Mont Blank
Photo by Mikhail Nilov on Pexels.com
होंश पर मेरी आवाज़ मैं Radio Public podcast पर




यदि मेरे जीवन में मेरी साधना को एक शब्द में कहने को कहा जाए तो वह होगा ‘होश’. पिछले 35 वर्षों से सुबह toothbrush का समयपूरी तरह मेरा अपना समय है। इसी में मैंने होश को साधा। पूरा ध्यान इस विडीओ में बताए अनुसार किया। धीरे धीरे यह मेरे जीवन केहर काम में अतिक्रमण कर गया। मुझे पता ही नहीं चला। लेकिन मुझे लोग कहते थे कि शाम को काम से आप बड़े ताजे होकर लौटते हैं।मुझे राज का पता आज चला इसे सुनने के बाद।

होश या awareness पर ओशो का सबसे सटीक कथन

कबीर इसी को सुरती कहते हैं।

सूरत सम्भाल ऐ गाफ़िल, अपना आप पहचान।

कबीर कहते हैं कि यदि तूने होश को सम्भाल लिया तो तुझे अपना स्वामी, अपना आत्मा, अपना स्वभाव या अपना राज्य अपने आप मिल जाएगा। यह होश या awareness या कहें mindfulness मनुष्य की सबसे मूल्यवान संपदा है, और इस संसार में से कुछ पल चुरा लेना है- जैसे मछली सागर के पानी में से अपने जीवन को बनाए रखने के लिए सहज ही आक्सिजन/oxygen चुरा लेती है।

मेरे अपने अनुभव से मैं कह सकता हूँ कि ‘ऐसे ही थोड़े से प्रयास से हम भी अपने होश को सहज ही बनाए रखने में सफल हो जाते हैं। फिर धीरे धीरे यह सारे काम में सहज हो जाता है। क्योंकि शरीर को किसी काम को सहज होकर करने के लिए कम ऊर्जा लगती है तो वह वैसा ही होने लगता है। नींद भी रात को सोते ही आ जाएगी, और पाँच से छह घंटे की नींद में आप तरोताज़ा महसूस करेंगे। आपके निर्णय लेने की क्षमता में भी काफ़ी इज़ाफ़ा हो जाएगा। यह सब bye-product हैं, लेकिन कोई इसके लिए सहज होने का प्रयत्न करेगा तो वही असहजता का कारण हो जाएगा। सहज का मतलब ही है बस करना है, कोई कारण नहीं है उसके पीछे।’

यदि आपको यह post पसंद आया है तो इसे अपने साथियों को भी share करें। ताकी जिसको इसकी बहुत ज़रूरत है उस तक यह पहुँच सके। पुण्य का काम है माध्यम बन जाना किसी के भले के लिये।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.