A mystic enjoys Nisarg state or the quantum state or Living dead.

Photo by Nacho Juu00e1rez on Pexels.com
Nisarg is about Living in the moment, giving its best every moment, knowing well that today is the only day, this moment is the only moment worth living, enjoying by giving its fragrance all around, whether there is any taker or not. Dead like stone from his own side, knowing by own experience that being made up of minerals and after drying again turn into dust etc.

Every human being exhibit Quantum state, one is Zero state (with Ego) another is Infinite state (Egoless state). Mystics of the world who attained this Infinite state have written volumes to convey their message and ecstasy of living or enjoying or celebrating the Infinite state. I tried to give another perspective to it.


A Mystic is living his life is a perspective from our point of view, while at his end the journey is finished. So he lives in Nisarg or becomes like a (living) dead body. Osho says that you will attain to your ultimate potential only when you die, it means the death of the ego. Once ego died, now there is no way to connect of get affected with this world around. He is not affected by pleasure and pain, sorrow and happiness etc is actually a sober way to describe his state so that you too try to discover the lost kingdom within.

Osho used to provoke such Sober persons to remind them that their claim of ’death’ is skin deep only. Really dead person (or enlightened person) does not respond to such provocations.

Osho on Dadu, सबै सयाने एक मत, Chapter 3.

जीवत माटी हुई रहै, साईं सनमुख होई।

परमात्मा के सामने जो आया, वह जीते जी मिट्टी हो गया। या: जीते जी जो मिट्टी हो गया, उसके सामने परमात्मा आ गया। ये दोनों बातें एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। जीवित माटी हो रहो! परमात्मा की फिक्र ही मत करो। तुम जीते जी मर जाओ।

इन शब्दों को ठीक से समझ लेना। क्योंकि इन छोटे से शब्दों में धर्म की सारी कला समाहित है: जीते जी मर जाओ। मरते तो सभी हैं, आज नहीं कल। भक्त मरने के पहले मर जाता है। वह कहता है, जब मरना ही है, तो मौत की क्या प्रतीक्षा करनी! हम खुद ही मिटे जाते हैं।

जीवत माटी हुई रहै…

वह जीता है इस अर्थों में कि श्वास चल रही है। मर जाता है इस अर्थों में कि मैं का कोई भाव नहीं रह जाता। जीता है इस अर्थों में कि भूख लगती है, प्यास लगती है, भोजन भी मांग लाता है, पानी भी पी लेता है। मर जाता है इस अर्थों में कि अब जीने की कोई आकांक्षा नहीं रह जाती। तुम्हारी जीने की आकांक्षा ही, जीवेषणा–जीता रहूं, सदा जीता रहूं, मैं बना रहूं, मिट न जाऊं कहीं, खो न जाऊं कहीं–उस जीवन को वह छोड़ देता है।

वह जीता है, अगर परमात्मा जिलाए जा रहा है; श्वास लिए जा रहा है। तो संत कोई आत्महत्या नहीं कर लेता है। वह कहता है, तेरी मर्जी। जिलाए तो ठीक, मारे तो ठीक। अपनी तरफ से हम मरे हुए हैं। हमने अपने को तो अपनी तरफ से मिटा दिया, अब तेरी जो इच्छा।

जीवत माटी हुई रहै, साईं सनमुख होई।

दादू पहिली मरि रहै, पीछे तो सब कोई।।

दादू पहले ही मर जाओ। पीछे तो सभी मरते हैं।

दादू पहिली मरि रहै, पीछे तो सब कोई।।

सभी मरते हैं पीछे तो। धार्मिक पहले ही मर जाता है। वह मृत्यु को इतना कष्ट भी नहीं देता। वह अपने को पहले ही समेट लेता है। वह अपने को बढ़ाता ही नहीं। वह अपने को बनाता ही नहीं। वह अपने को सम्हालता ही नहीं। वह एक भीतर शून्य को जीने लगता है। देह होती है, मन नहीं होता। श्वास चलती है, चलाने वाला नहीं होता। उठना-बैठना होता है, भीतर का कर्ता खो जाता है।

ये सारे कृत्य निसर्ग (nisarg means dharm or law or tao or chop wood carry water or truth or nature or heart or tabiyat or mijaj or kudarat or beauty or feminine or receptive or cold fire )से चलते हैं। इनको चलाने की कोई जरूरत नहीं।

तुम श्वास थोड़े ही लेते हो, श्वास चलती है। तुम कुछ भी न करो तो चलती है। तुम गहरे सोए रहो तो चलती है। तुम मूर्च्छित पड़े हो तो चलती है। शराब पी ली है, नाली में गिर गए हो, तो चलती है। चलाने में तुम्हारा कोई हाथ नहीं है।

तो जो अपने आप चलता रहता है वह चलता रहता है। भूख लगती है, प्यास लगती है।

झेन फकीरों ने बहुत बार कहा है। जब भी उनसे पूछा गया कि निर्वाण को पा लेने के बाद, समाधिस्थ हो जाने के बाद अब आप क्या करते हैं? तो वे कहते हैं, भूख लगती है, तब खाना खा लेते हैं। प्यास लगती है, तब पानी पी लेते हैं। नींद आती है, तब सो जाते हैं। और कुछ भी नहीं करते। अपनी तरफ से कुछ नहीं करते। जो हो रहा है निसर्ग से, वह ठीक है।

Awareness meditation (Osho guiding about meditation on YouTube) is the way worked for me, may be you too find it suitable otherwise Dynamic meditation is for most of the people. You may wish to know that the state of meditation is our natural state and “How meditation affects us?”.

There are 110 other meditation techniques discovered by Indian Mystic Gorakhnath about 500years before and further modified by Osho that one can experiment and the suitable one could be practiced in routine life.

My experiences may be of your help in taking only one step in deciding to add value to life. Because everyone has to move forward alone, this is the nature of this journey.
In my life mindfulness or awareness meditation (My experiences shared through a post) helped miraculously. Along with meditation living a simple, authentic and totality in life is very helpful. It is helful even when we are serving people around us with great love and care without discrimination.

Hi ….. I write my comments from my personal experiences of my inner journey and how I add value to life by living consciously. This post may include teachings of Mystics around the world which from my personal experience I found worth following even today. For more have a look at my linktree website for getting regular updates through social media lor subscribe to YouTube channel or listen to the podcasts etc.

For references of content on Osho, Copyright © OSHO International Foundation, An MP3 audio file of many discourses can be downloaded from Osho(dot)com or you can listen or watch most of his discourses @ OSHO International channel of YouTube where you can get subtitles in language of your choice or you can read the entire book online at the Osho Library. Many of Osho’s books are available online at Amazon.

My suggestions:-

Osho International Online (OIO) provides facility to learn these Osho discovered Dynamic Meditations for new generation from your home, through Osho Meditation Day @€20.00 per person. You can learn Dynamic meditations from disciples of Osho.  OIO rotate times through three timezones NY,Berlin and Mumbai.

 

If you need further clarification on this post or if you wish to share your experience in this regard that may prove beneficial to visitors, please comment.