असली ब्राह्मण कौन? ध्यान और दिमाग़ पर प्रभाव

यूट्यूब पर चैनल के इस शो का स्क्रीन शॉट जो ध्यान & दिमाग़ पर प्रभाव को बताता है।
ध्यान & दिमाग़ पर प्रभाव

बिग थिंक यू-ट्यूब चैनल पर एक महत्वपूर्ण वीडियो ध्यान और उसके मस्तिष्क पर प्रभाव से संबंधित वैज्ञानिक खोज पर इस लिंक से उपलब्ध है। यह अंग्रेज़ी में है और आप इस वीडियो की सेटिंग में जाकर हिन्दी में नीचे सबटाइटल को इसको English>Hindi पर सेट करके जो वह कह रहा है उसको हिन्दी में पढ़ सकते हैं। आपको कुछ इस प्रकार दिखेगा जैसा नीचे के फोटो में बताया है।

ध्यान & दिमाग़ पर प्रभाव बताते हुए एंकर



 


यहाँ वे मानते हैं कि भारतीयों में कुछ ख़ास गुण हैं लेकिन हम धन और पद में ही इतने उलझे हुए हैं कि हम अपनी नैसर्गिक गुण को ही विकसित करने का समय  नहीं निकाल पा रहे हैं। कंप्यूटर और आईटी को लेकर पागल हो रहे हैं। 

YouTube link:- 

 

https://bigthink.com/videos/daniel-go…

अंग्रेजी ट्रांसक्रिप्ट का हीन्दी अनुवाद गुगल की मदद से और मेरे अनुभव से संशोधित। इसके नीचे मूल प्रति भी है

डेनियल गोलेमैन: अल्टरड ट्रैट्स पुस्तक के मेरे सह-लेखक एक न्यूरोसाइंटिस्ट, रिचर्ड डेविडसन हैं।

विस्कॉन्सिन विश्वविद्यालय में उनकी एक प्रयोगशाला है। यह एक बहुत बड़ी प्रयोगशाला है, उनके पास (दिमाग़ से संबंधित शोध के लिए ) एक समर्पित स्कैनर हैं, उनके पास लगभग 100 लोग काम करते हैं, और वह कुछ उल्लेखनीय शोध करने में सक्षम थे।

जहां उन्होंने कुछ ओलंपिक स्तर के ध्यानियों या ध्यान योगियों – जो आमतौर पर नेपाल या भारत में रहते हैं, कुछ फ्रांस में – उन्होंने उनको हवाई जहाज़ से अपनी प्रयोगशाला में उनके दिमाग़ पर प्रयोग करने के लिए लेकर गये और प्रयोगशाला में उन्हें एक प्रोटोकॉल (चित्र में जो तारों का जाल दिखाई दे रहा है) माध्यम से अपने मस्तिष्क के स्कैनर में डाला और अत्याधुनिक परीक्षण किए और परिणाम आश्चर्यजनक थे।

उदाहरण के लिए, हमने पाया, या उसने पाया कि उनकी दिमाग़ी तरंगें वास्तव में भिन्न हैं

शायद ओलंपिक स्तर के ध्यानियों (यानी विश्व के सर्वश्रेष्ठ ध्यान योगियों में) में सबसे उल्लेखनीय निष्कर्ष गामा तरंग कहलाने वाली चीज़ से संबंधित है।

जब हम किसी ऐसी समस्या का समाधान करते हैं जिससे हम जूझ रहे हैं तो हम सभी को बहुत ही कम समय के लिए गामा मिलता है, भले ही वह ऐसी चीज हो जिसने हमें महीनों से परेशान कर रखा हो। तब हमें लगभग आधा सेकंड गामा मिलता है; यह ईईजी स्पेक्ट्रम में सबसे मजबूत लहर है।

हमें यह तब मिलता है जब हम एक सेब को काटते हैं या एक सेब को काटने की कल्पना करते हैं, और एक संक्षिप्त अवधि के लिए, एक सेकंड के भी १०० हिस्से करें जायें तो सिर्फ़ उतने समय के लिए, स्वाद, ध्वनि, गंध, दृष्टि से इनपुट, वे सभी सेब में उस काल्पनिक काटने में एक साथ आते हैं। लेकिन सामान्य ईईजी में यह बहुत कम (यानी सेकंड के हज़ारवें हिस्से) समय तक रहता है।

आश्चर्यजनक बात यह थी कि ओलंपिक स्तर के ध्यान करने वाले, ये वे लोग हैं जिन्होंने जीवनकाल में 62,000 घंटों तक ध्यान किया है,

(यहाँ उनको शायद पता नहीं है कि इसका संबंध ध्यान की तीव्रता से है, ना कि ध्यान के घंटों से अन्यथा कबीर नहीं कहते “खोजी हो तो तुरते मिलिए पल भर की तलाश में”, नानक नहीं कहते “एक ओंकार सतनाम, करता पुरख़, निर्भय निर्वैर, अकाल मूरत अजूनी सैभम -अभी संभव है)  लेकिन चूँकि वे ओलंपिक स्तर से उनको नाप रहे है और ओलंपिक के लिए घंटे ही महत्वपूर्ण होते हैं इसलिए ठीक भी है।)

उनके मस्तिष्क की तरंगें गामा को एक स्थायी गुण के रूप में हर समय बहुत मजबूत दिखाती हैं, चाहे वे कुछ भी कर रहे हों। यह कोई अवस्था प्रभाव नहीं है, यह अकेले उनके ध्यान के दौरान नहीं है, बल्कि यह उनकी हर दिन की मनःस्थिति है। वास्तव में हमें यह पता नहीं है कि अनुभवात्मक रूप से इसका क्या मतलब है। विज्ञान ने इसे पहले कभी नहीं देखा है।

हमने यह भी पाया कि इन ओलंपिक स्तर के ध्यानकर्ताओं में जब हमने उनसे, उदाहरण के लिए, करुणा पर ध्यान करने के लिए कहा, तो उनके गामा का स्तर कुछ ही सेकंड में 700 से 800 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। ऐसा विज्ञान ने भी कभी नहीं देखा है।

इसलिए हमें यह मानना होगा कि चेतना की जो विशेष अवस्था आप उच्चतम स्तर के ध्यानियों में देखते हैं, वह काफी हद तक सदियों पहले शास्त्रीय ध्यान साहित्य में वर्णित कुछ के समान है, यानी कि एक ऐसी अवस्था है जो हमारी सामान्य अवस्था की तरह नहीं है।

कभी-कभी इसे मुक्ति, आत्मज्ञान, जागृति कहा जाता है, चाहे जो भी शब्द हो, हमें संदेह है कि वास्तव में ऐसी कोई शब्दावली नहीं है जो यह समझ सके कि यह क्या हो सकता है।

जिन लोगों से हमने इस ओलंपिक स्तर के अनुभव के बारे में बात की है, उनका कहना है कि यह बहुत विशाल है और हमको ऐसा लगता है जैसे काफ़ी मुक्त या खुले हुए हैं। हमको भरोसा होता है कि किसी भी समय जैसी भी परिस्थिति बनेगी उसके लिए हम तैयार हैं, यह कैसे होगा हम नहीं जानते। लेकिन हम जानते हैं कि यह भरोसा काफी उल्लेखनीय है।

From Transcript in English that is translated to Hindi using Google translate and minor edition.

मेरे अनुभव :-

समय के साथ, 20 वर्षों के भीतर, मैं अन्य कृत्यों के दौरान होंश या जागरूकता को लागू करने में सक्षम हो गया, जबकि मुझे ध्यान & दिमाग़ पर प्रभाव का एहसास बाद में हुआ कि कई कृत्यों में यह पहले ही स्वतः होने लगा था।

संपूर्णता के साथ जीना, जीवन को एक प्रामाणिक रूप में जीना यानी भीतर बाहर एक और ईमानदारी से जीना, लोगोंकी बिना भेदभाव के निःस्वार्थ भाव से सेवा करना और सभी बंधनों (धार्मिक, शैक्षिक, जाति, रंग आदि) से मुक्त होनातीन महत्वपूर्ण उत्प्रेरक हैं जो किसी को गहराई तक गोता लगाने में मदद करते हैं।

होंश का प्रयोग मेरे लिए काम करने का तरीका है, हो सकता है कि आपको भी यह उपयुक्तलगे अन्यथा अधिकांश लोगों के लिए गतिशील ध्यान है। लगभग 500 साल पहले भारतीय रहस्यवादी गोरखनाथद्वारा खोजी गई और ओशो द्वारा आगे संशोधित की गई 110 अन्य ध्यान तकनीकें हैं जिनका प्रयोग किया जा सकताहै और नियमित जीवन में उपयुक्त अभ्यास किया जा सकता है।

ओशो इंटरनेशनल ऑनलाइन (ओआईओ) डायनामिक मेडिटेशन को ऑनलाइन  घर से सीखने की सुविधा प्रदान करता है,

1. ओशो ध्यान दिवस अंग्रेज़ी में @यूरो 20.00 प्रति व्यक्ति के हिसाब से। OIO तीन टाइमज़ोन NY, बर्लिन औरमुंबई के माध्यम से घूमता है। आप अपने लिए सुविधाजनक समय के अनुसार प्रीबुक कर सकते हैं।

2. ओशो इवनिंग मीटिंग स्ट्रीमिंग है जिसे हर दिन स्थानीय समयानुसार शाम 6:40 बजे से एक्सेस किया जा सकताहै और16 ध्यान ज्यादातर वीडियो निर्देशों के साथ और Osho के iMeditate पर और भी बहुत कुछ।

3. जो लोग पहले इसे आजमाना चाहते हैं उनके लिए 7 दिनों का नि: शुल्क परीक्षण भी है।

यह इन संन्यासियों के माध्यम से ओशो को सीखने और जानने का एक अवसर है, जो उनकी उपस्थिति में रहते थे औरउनके शब्दों को सभी स्वरूपों में सर्वोत्तम संभव गुणवत्ता में जीवंत करते थे।

अंतिम क्षणों में यीशु के शिष्यों ने उन्हें अकेला छोड़ दिया लेकिन ओशो के शिष्य तब तक उनके साथ रहे जब तक किउन्होंने काम करने के बाद स्वेच्छा से अपना शरीर नहीं छोड़ा, अंतिम दिन तक, हम सभी को प्रबुद्ध होने के लिए। यीशुने अपने शिष्यों को ध्यान सिखाने के लिए पकड़े जाने से पहले अंतिम समय तक कड़ी मेहनत की। सेंट जॉन गॉस्पेलके अनुसार: – यीशु ने अपनी ध्यान ऊर्जा को उनमें स्थानांतरित करने के लिए ‘सिट’ (Sit)शब्द का इस्तेमाल कियाऔर भगवान से प्रार्थना करने के लिए चले गए, लेकिन लौटने पर उन्होंने उन्हें सोते हुए पाया। उसने दो बार फिरकोशिश की लेकिन व्यर्थ।

आज भी ज़ेन (ZEN) लोग ध्यान के लिए ‘बैठो’ शब्द का प्रयोग अपने कथन में करते हैं ‘चुपचाप बैठो (Sit silently) कुछ न करो, मौसम आता है और घास अपने आप हरी हो जाती है’।

नमस्कार ….. मैं अपनी आंतरिक यात्रा के व्यक्तिगत अनुभवों से ध्यान & दिमाग़ पर प्रभाव पर अपनी टिप्पणियाँ लिखता हूँ। इस पोस्ट में दुनिया भरके रहस्यवादियों की शिक्षाएँ शामिल हो सकती हैं जिन्हें मैं आज भी मानने लायक समझता हूँ। मेरे बारे में अधिकजानकारी के लिए और मेरे साथ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जुड़ने के लिए, मेरे सोशल मीडिया लिंक से जुड़ने केलिए वेबसाइट https://linktr.ee/Joshuto पर एक नज़र डालें, या मेरे यूट्यूब चैनल की सदस्यता लें और/यापॉडकास्ट आदि सुनें।

 

If you need further clarification on this post or if you wish to share your experience in this regard that may prove beneficial to visitors, please comment.