द्विज होने का मतलब क्या?

Today i come across a post on FaceBook regarding Osho’s birthday. My comments in Hindi may be of help to understand it better.

मैं तुम्हें रोज़ रोज़ समझाऊँगा

शिष्य एक मिट्टी का लोंदा हो सके, तो ही गुरु उसे ईश्वर में ढाल सकता है। मैं तुम्हें रोज़ रोज़ समझाऊँगा ओशो का यह यूटूब पर ऑडीओ सुनने लायक़ है। जब तक आप स्वयं के प्रयत्न और अनुभव से आत्मज्ञान को प्राप्त नहीं हो जाते तब तक आप आध्यात्मिक ज्ञान की किताबों वेदों, उपनिषदों, बुद्ध, … Continue reading मैं तुम्हें रोज़ रोज़ समझाऊँगा