हक़ीरो-नातुवां तिनका

इन पंक्तियों के माध्यम से सूफ़ी फ़क़ीर अहंकार की यात्रा पर जाने वाले व्यक्ति की भावना को प्रकट किया है।