साक्षी की साधना

शरीर, मन और आत्मा ->आत्मज्ञान अष्टावक्र महागीता भाग १, #४, पहले प्रश्न का उत्तर  (from "अष्टावक्र महागीता, भाग एक - Ashtavakra Mahageeta, Vol. 1  : युग बीते पर सत्य न बीता,  सब हारा पर सत्य न हारा (Hindi Edition)" by Osho .) Start reading it for free: https://amzn.in/7lDQLig -------------- Read on the go for free - … Continue reading साक्षी की साधना

सांख्य योग- स्वधर्म कि यात्रा

जब कोई बच्चा पैदा होता है तब मनुष्य के रूप में अस्तित्व का पदार्पण होता है। बच्चा शुद्ध अस्तित्व रूप लिए होता है, रस रूप होता है। इसे बाउल गायकों ने ‘आधार मानुष’ कहकर गीत लिखे हैं। धीरे धीरे बच्चा अपने शरीर से परिचित होता है। जिसे हम कहें कि जो रस है उसे पता … Continue reading सांख्य योग- स्वधर्म कि यात्रा