अल्लाह करम करना, मौला तू रहम करना

मेरे जीवन में इस गाने के कारण, कक्षा 8 या 9 में, मुझे पूरी क़ुरान और मुस्लिम क़ौम के मूल्यों के बारे में जो सीख मिली उसे मैंने हिंदू होते हुए अपने जीवन में उतारा और उनको सही पाया भी।