Data and Mind

The Kingdom of God or Tao or Consciousness or Soul is like Data for a mobile phone. If you exist then the whole world around you exists too. The seed of your existence of world around lies in a person’s mind, and so every person defines the world around him differently, may be they all … Continue reading Data and Mind

Only few dare for Spiritual World too, after Conquering Zones of material world.

Many people become successful in their life but after reaching to the top they committed suicide. Why? What is the reason behind such achievement? They have used only one wing to fly in the sky, while even a bird needs two wings to fly in the sky. Meditation is the other wing, they have not bothered to grow it in their life while climbing on ladders of success in corporate world. In material life it needs to be just kept growing at very slow pace, so that when one embarks upon the spiritual journey or inner journey the much needed other wing has grown sufficiently to keep one flying in the sky.

अंतिम पायदान से शून्य में छलाँग

क़रीब पिछले पंद्रह दिनों में मेरे अनुभवों को में कबीर के इस दोहे के समान अनुभव करता हूँ। कबीर मन निश्चल भया, और दुर्बल भया शरीर। तब पीछे लागा हरी फिरे, क़हत कबीर कबीर।।

मनुष्य यंत्र की भाँति जीता है।English part updated with a video.

ओशो का यह Audio मनुष्य के जीवन के महत्वपूर्ण रहस्य को उद्घाटित करता है कि जीवन भर अपने सारे प्रयत्न के बावजूद भी वह क्यों जीवन के अंत तक परेशान, दुखी और असंतुष्ट बना रहता है। ख़ुशी जीवन का उसके जीवन में बस एक छोटा से हिस्सा ही नसीब होता है। उसे मनोचिकित्सक भी इतनी सरलता से उसको नहीं समझा सकते जो ओशो नेसमझाने का प्रयास किया है। 

मेहंदी और मनुष्य जीवन

आज मुझे आंतरिक प्रेरणा हुई कि कितनी समानता है मनुष्य और मेहंदी में। काश की हम सब अपना हर पल इस प्रकार बिता सकें कि जब हम सूख कर खिर जायें तो पीछे लाल रंग से रंगी मोहक कलाकृति हो रह जाएँ और उसको बरकरार रखने के लिए हम भी अदृष्टता में अमर होकर रह जाएँ। जैसे आज ओशो हैं।