I am the Truth.

Truth is the ‘I Am-ness’. Truth is Omnipresent so how it can have a destination? Nirvana can never be a goal. When you don’t have any goal, nirvana comes to you. You never go towards nirvana. When you are not going anywhere, it comes to you. Or, if you want to use the language of … Continue reading I am the Truth.

🔹🔹 लाओ त्ज़ु पर ओशो श्री अरविंद के माध्यम से 🔹🔹

43. THE BEST TEACHING HAS NO WORDS - - - The softest overcomes the hardest, the insubstantial penetrates the material. A wise man knows the value of accomplishment without action, he teaches without words and lets things flow freely. Few can do this. 45:NON-INTERFERENCE BRINGS STABILITY - - - Real perfection seems incomplete, yet its … Continue reading 🔹🔹 लाओ त्ज़ु पर ओशो श्री अरविंद के माध्यम से 🔹🔹

Reunion of seekers of truth is called as Satsang. सत्संग – सत्य की खोज पर निकले मुसाफ़िरों का मिलकर ध्यान, मनन करना

By Satsang I mean time sharing of seekers of the truth.

वही संपत्ति है जो मृत्यु के पार चली जाए-ओशो

भीतर छुपा है कोहिनूर और भिखारी की तरह जीवन जी रहे हैं। बड़े कोष्ठक में ओशो एक कहानी के संदर्भ में जो कह रहे हैं वह है और छोटे कोष्ठक में मेरे अनुभव से ओशो के प्रवचन पर प्रकाश डाला गया है ताकि आपको बात गहरे बैठ जायँ और आप आज ही से जीवन में … Continue reading वही संपत्ति है जो मृत्यु के पार चली जाए-ओशो