जो कर्ता में अकर्ता, और अकर्ता में कर्ता को देखता है। वही देखता है।

जो कर्ता में अकर्ता, और अकर्ता में कर्ता को देखता है। वही देखता है। गीता के एक श्लोक पर आधारित है यह. बचपन में अंधे और लंगड़े की पढ़ी कहानी को इसके माध्यम से आध्यात्मिक यात्रा के लिए उपयोगी बताने का प्रयास किया है ।

Why Mystics added Zero as a number in mathematics?

Why Mystics added Zero as a number in mathematics? Spiritual seekers arrived at it through meditation or mindfulness. Here I am trying to shed another perspective on it from philosophical or psychological point of view. Osho, Vivekananda and Vedant is used to support my conclusion.

My experience of Transcendence/Satori/Nirbeej-samadhi.

It is about my own experience in spiritual journey through awareness or mindfulness meditation leading to falling into emptiness called as nirbheej samadhi or Satori in Zen Buddhism of Buddha. Tao of Lao Tzu is same and so spoke Zharathustra too by celebration.